Press "Enter" to skip to content

27 Comments

  1. MrAkmeena
    MrAkmeena June 12, 2019

    कुछ भी कहो चाहे ये बेरोजगरो के साथ धोखा है ।क्योकिं इसमे इंटरव्यू सबसे खराब डिसीजन लगा क्योकिं भ्रस्टाचार खूब बढ़ेगा ।दुसरी बात सर ये की 4 परीक्षाओं की तेयारी करनी होगी तो खर्च भी बढ़ेगा ।
    (जिसकी लाठी उसकी भेस्ं )

  2. Jagdev Jat
    Jagdev Jat June 12, 2019

    Sir RPSC ki kya halat h aap dekh hi rahe ho.agar ye sb start ho gye to RPSC ek bhi bharti puri nhi kara payegi.

  3. SUNIL GURJAR
    SUNIL GURJAR June 12, 2019

    काजला सर केसवानंद भारती विवाद डालो सर वह समझ नहीं आया मारे आप डाल दो धन्यवाद

  4. RAJENDRA SANWA
    RAJENDRA SANWA June 12, 2019

    सर् सिद्धान्त तौर पर बात बहुत कर सकते है लेकिन वयवहार में जो इंटरवियू के लिए अधिकारी बैठा रहता है वो उसके मन मे जातिवाद ओर अन्य पूर्वाग्रह पहले से कूट कूट के भरे होते है जो आज हम upsc, spsc में देख सकते है और रही बात विश्वास की तो कितना करे सरकारों ने रोजगार के नाम पर बहुत बार धोखा किया है देश के युवाओं के साथ जैसे मोदी सरकार ने ही 10करोड़ नोकरियो की बात की थी लेकिन cso के आंकड़ों के अनुसार 2017-18 में केंद्र में 93000 नॉकरी घट गई है ।देश मे लोकतंत्र जनता का हित केवल नाममात्र का ही रह गया है सरकारों में बैठे लोग स्वहित ओर वोट हिट को बढ़ावा देने वाली समितियों की रिपोर्ट को ही स्वीकार करते है वास्तव में देश हित हो सकता है वैसी रिपोर्ट को सरकार ठंडे बस्ते में डाल देती है ।

  5. Ashu Yadav
    Ashu Yadav June 12, 2019

    Prnam gurudev
    Apne bhut se confusion dur kr diye…
    Dhanyad gurudev

  6. Sajid Khan
    Sajid Khan June 12, 2019

    Sir ji aap ko yaad dilwadu ki inteview ko to modi ji ne khud bola tha mei smapat kr dhunga ismei bhrastachar hota h

  7. Sajid Khan
    Sajid Khan June 12, 2019

    Political sci. ki video ka wait ho rha h sir

  8. Usha Duddi
    Usha Duddi June 12, 2019

    Sir political science paper second ke video continue rakhna plz

  9. My India
    My India June 12, 2019

    आज की शिक्षा नीति में क्या खोट है , जो बेरोजगारों के साथ बहुत बड़ा धोखा करने की नियति पर मोदी सरकार उतर आई

    मेरे हिसाब शिक्षक भर्ती प्रक्रिया नहीं बदली जानी चाहिए क्योंकि जो बेरोजगार 27- 40 के बीच की आयु के है और बीएड और ma कर चुके है उनके सामने नया संकट खड़ा हो जाएगा
    साथ ही साथ जब वे नए सिरे से तैयारी करेंगे तो वो लोग मानसिक और आर्थिक दोनों रूप से कमजोर हो जाएंगे तथा उनका सरकारी जॉब की आशाएं भी ख़तम ही जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *